हनुमानगढ़:-लौटने लगे कांग्रेसी,चुनाव के वक़्त में याद आने लगा अपना शहर! - Report Exclusive

Report Exclusive

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Tuesday, 29 May 2018

हनुमानगढ़:-लौटने लगे कांग्रेसी,चुनाव के वक़्त में याद आने लगा अपना शहर!


विपक्ष की भूमिका में नजर आते तो माहौल कुछ ओर होता!


कुछ एक नेताओ ने सुर्खियों में बचा के रखा पार्टी का नाम



निष्क्रिय पदाधिकारियों को दिखाए बाहर का रास्ता-राहुल गांधी



श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ में जल्द हो सकता है चेहरों में बदलाव!



हनुमानगढ़।(कुलदीप शर्मा) शहर की राजनीति हमेशा चर्चा का विषय रही है। चाहे वो सत्तापक्ष की तरफ से हो चाहे वो विपक्ष की तरफ से हो। राजनीतिक हलचलों से हनुमानगढ़ हमेशा ही गूंजता रहा था! लेकिन अब तो पिछले चार सालों से मानो कोई कांग्रेस का नेता है ही नहीं है जो सत्तापक्ष के गलत कार्यो पर हिम्मत से आवाज उठा सके! विपक्ष की भूमिका में आज तक भी कांग्रेसी नेता नजर ही नहीं आये है। रिपोर्ट एक्सक्लूसिव ने पहले भी कांग्रेस नेताओं की गलतियों को उजागर कर जनता को जागरूक करने व कांग्रेस पार्टी को उनकी गलतियों को दिखाने का बेबाकी से प्रयास किया था। तो वहीं अब कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी राजस्थान में सचिन पायलट को सीधा दिशा-निर्देश दिया है कि निष्क्रिय चल रहे पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को बाहर का रास्ता दिखाते हुए नए सिरे से पार्टी पदाधिकारियों को चुना जाए।



दिल्ली नगरी को छोड़ पहुंचे हनुमानगढ़
.........
कांग्रेस के जिन नेताओ और कार्यकर्ताओं ने आगे बढाया व मान-सम्मान दिया उन्ही को छोड़ कर वो महोदय जी पिछले कई सालों से दिल्ली में अपनी जिंदगी गुजार रहे थे! जैसे ही पता चला कि चुनावी हलचल शुरू हो चुकी है और चुनाव के दिन नजदीक आ गए है तो सुना है वो भी अब घर वापसी करते हुए चुनावो में अपनी ताल ठोकने व आम जनता को फिर से बातो में उलझाकर चुनाव जीतने का प्रयास करने लगे हैं! कांग्रेसी नेताओं की जहां जरूरत थी वो कम ही नजर आए तो अभी जब चुनाव नजदीक है तो जाहिर सी बात है अब जनता से हमदर्दी जताते हुए उन्हें फिर से ठगने का प्रयास जरूर करेंगे...!! सुना है वो कांग्रेस के युवा प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं लेकिन कभी जनता के कामो से उनका भी सरोकार नहीं रहा है। अगर ऐसे ही व्यक्तियों के सहारे चुनाव जीतने के सपने अगर कांग्रेस देख रही है तो शायद पार्टी की भूल होगी! क्योंकि अब जनता समझदार हो चुकी है वोट उसी को देती है जो जनता के कार्यो को तवज्जो देता है।

असर:-राहुल के निर्देश निष्क्रिय व्यक्तियों को दिखाए बाहर का रास्ता
........
कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सचिन पायलेट व मुख्य नजदीकी पदाधिकारियों को साफ दिशा निर्देश दिए हैं कि जो भी हो ब्लॉक से लेकर प्रदेश कार्यकारिणी में निष्क्रिय चल रहे नेताओ को बाहर का रास्ता दिखाया जाए। जिसके बाद से सूत्रों की माने तो सभी पदाधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है तो कुछ एक तो अब से ही जयपुर बैठे नेताओ से सम्पर्क साधना शुरू कर चुके हैं। रिपोर्ट एक्सक्लूसिव की खबरों के बाद हनुमानगढ़ कांग्रेस राजनीति की चर्चा हर जुबान पर होने लगी है तो वहीं इस दौरान राहुल गांधी के निर्देश भी रिपोर्ट एक्सक्लूसिव की खबरों पर मुहर लगा रही है। कांग्रेस के आलाकमान भी अब किसी प्रकार की रिस्क लेने के मूढ़ में नजर नहीं आ रही है।


दोनो जिलो में बदल सकते हैं कई चेहरे
........
कांग्रेस मुखिया राहुल गांधी के सख्त दिशा निर्देश के बाद जहां सचिन पायलेट व प्रमुख नेताओं ने सभी जिलों पर खास नजर डालनी शुरू कर दी है तो वहीं सूत्रों की माने तो हनुमानगढ़ व श्रीगंगानगर दोनो जिलो में कई प्रमुख पदों पर जल्द ही बदलाव देखे जा सकते है। तो वहीं राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का ये भी कहना है कि कार्य करने वालो को घबराने की जरूरत नहीं है क्यों कि उनके कार्यो का हमे सब पता है कि कौन क्या कर रहा है! वहीं सूत्रों की माने तो राहुल के निर्देश के बाद कई कांग्रेसी नेताओं ने जयपुर में सम्पर्क साधने भी शुरू कर दिए हैं माना जा रहा है कि अभी कांग्रेस पार्टी किसी प्रकार का नुकसान नहीं उठाना चाहती है जिसका खामियाजा उनको चुनावों में वक़्त ओर राज्यो की तरह उठाना पड़े! अब दोनों जिलो पर इस निर्देश का कितना असर होता है किन पर गाज गिरती है इसका अंदाजा तो समय पर ही छोड़ दे तो उचित होगा। पर हां इतना जरूर है कि पार्टी ने सभी के कार्यो का रिकॉर्ड जुटाना शुरू कर दिया है।

रिपोर्ट कार्ड बनने शुरू,नये को मौका मिलने की आशंका!
.........
हनुमानगढ़ शहर में लगातार हालात विपक्ष के लिए कुछ ठीक नहीं है। जनता के किसी भी कार्यो को लेकर विपक्ष हमेशा बैकफुट पर रहा है! हां इसमे कोई दो-राय नहीं है कि कुछ एक नेताओ ने विपक्ष पार्टी को जिंदा रखने का प्रयास किया है! अन्यथा हमे नहीं लगता कि सिवाए बैठकों के अलावा कांग्रेस पार्टी का नाम कहीं आने वाला था! राहुल गांधी ने दिशा-निर्देशों के साथ सभी के कार्यो की रिपोर्ट पार्टी कार्यालय में होने का कह कर ये साफ कर दिया है कि कांग्रेस पार्टी सभी का रिपोर्ट कार्ड तैयार करने में जुटी हुई है ताकि सही व्यक्ति को ही चुना जा सके! ये भी साफ है कि कांग्रेस पार्टी अभी कोई रिस्क लेने के किसी भी मूढ़ में नहीं है! जानकार सूत्रों की माने तो अभी हनुमानगढ़ व श्रीगंगानगर में हुए मेरा बूथ मेरा गौरव कार्यक्रम के तहत कई स्थानीय नेताओं व कार्यकर्ताओं से उनका बायोडाटा पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा मांगा गया था जिसका असर आने वाले दिनों में देखने की उम्मीद जताई जा सकती है। दोनों जिलो में कई नए चेहरों को पार्टी अपने कार्यो के लिए चुन भी सकती है।

कांग्रेस कार्यकर्ता ईमानदार फिर भी नेता दूर!
......
कांग्रेसी जानकारों की माने तो कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता ईमानदारी से अपना कार्य निभाने का प्रयास करते हैं जिसका परिणाम ही है कि दोनों जिलो में कांग्रेस पार्टी उम्मीदवारों को जमकर वोट मिलते हैं! लेकिन वहीं नेताओ द्वारा उन्ही पार्टी कार्यकर्ताओं से ईमानदारी ना रखने की वजह से आपसी दूरिया भी कई बार बढ़ जाती है जिसका असर कांग्रेस पार्टी को अक्सर चुनावो में देखने को मिलता है। माना जाता रहा है कि कांग्रेस पार्टी के किसी भी उम्मीदवार को चुना जाता है तो वो ही व्यक्ति वोट डालते हैं जो कांग्रेस पार्टी के किसी ना किसी रूप में समर्थक हैं जिसका असर चुनावो में कांग्रेस पार्टी को पड़े वोटो से देखे जा सकता है। तो वहीं कुछ एक परसेंट ही जातिवाद पर वोट मिल पाते हैं। हालांकि जनता काफी हद तक जातिवाद जैसे मुद्दों से जागरुक हुई है लेकिन आज भी जाति को देखकर वोट डालने की प्रथा कहीं दूर-दराज के गांवों में मौजूद हैं। अक्सर कार्यकताओ की नाराजगी का नुकसान चुनाव हार से उठाना पड़ता है। इतनी पुरानी पार्टी होने के बावजूद भी कार्यकर्ताओ व नेताओ में तालमेल की कमी काफी जगह देखी जा सकती है।

loading...

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे