Report Exclusive, Lok Sabha Elections 2019: Latest News, Photos, and Videos on India General Elections, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India चिकित्सक की लापरवाही से महिला की मौत,पुलिस ने मामला दर्ज किया,विभाग भी कर रहा है जांच - Report Exclusive

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Friday, 29 March 2019

चिकित्सक की लापरवाही से महिला की मौत,पुलिस ने मामला दर्ज किया,विभाग भी कर रहा है जांच


Bikaner। एक महिला मरीज की मौत हो जाने पर उसका इलाज करने वाले निजी चिकित्सक पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया गया है। मृतक महिला के पुत्र द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने इस निजी चिकित्सक पर गैर इरादतन हत्या के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने भी इस निजी चिकित्सक की जांच शुरू कर दी है कि उसकी मेडिकल की डिग्री वैध है या नहीं? यह मामला बीकानेर जिले में छत्तरगढ़ थाना क्षेत्र का है।पुलिस के अनुसार घेघड़ा गांव निवासी लिखमाराम मेघवाल ने रिपोर्ट दी है कि मंडी 465 हैड में अपना प्राइवेट क्लीनिक चलाने वाले डॉ जयप्रकाश गोदारा ने उसकी मां तुलसीदेवी (55) पत्नी जेठाराम के कोई गलत इंजेक्शन लगा दिया, जिससे उसकी हालत बिगड़ गई। 


इलाज के लिए बीकानेर जाते समय तुलसीदेवी ने दम तोड़ दिया। पुलिस के अनुसार रिपोर्ट में लिखमाराम ने बताया है कि उसकी मां को बुखार था, जिस पर वह दवा दिलवाने के लिए मंडी 465  हैड में डॉ जयप्रकाश गोदारा के नवजीवन हेल्थ केयर हॉस्पिटल में ले गया। डॉ. गोदारा ने उसकी मां के इंजेक्शन लगा दिया, जिसके कुछ देर बाद उसकी हालत खराब हो गई। इस पर डॉ. गोदारा ने खुद एक गाड़ी को किराए पर किया और उसकी मां को पीबीएम हॉस्पिटल बीकानेर ले गया।वहां डॉक्टरों ने चैकअप के बाद उसकी मां को मृत घोषित कर दिया गया। यह पता चलते ही डॉ. गोदारा वहां से गायब हो गया। 

छतरगढ़ पुलिस के अनुसार बुधवार को लिखमाराम द्वारा इस आशय की रिपोर्ट दिए जाने पर धारा 304 ए के तहत डॉ. गोदारा पर मुकदमा दर्ज किया गया। मृतक महिला का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया है। लिखमाराम ने रिपोर्ट में बताया है कि डॉ. गोदारा जब अपने क्लीनिक में उसकी मां का इलाज कर रहा था तो उन्होंने आग्रह भी किया कि अगर  हालत में सुधार नहीं हो रहा तो उसकी मां को रैफर कर दे, लेकिन इसमें डॉ. गोदारा ने देर कर दी। इस वजह से उसकी मां की मौत हो गई।


 इस बीच इस मामले की शिकायत बीकानेर में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेंद्र चौधरी से भी की गई है। जानकारी के अनुसार सीएमएचओ के निर्देश पर आज ब्लॉक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोदारा के बारे में जांच पड़ताल कर रहे हैं कि उनकी मेडिकल डिग्री वैध है या नहीं। अलबत्ता पता चला है कि डॉ. गोदारा का क्लीनिक रजिस्टर्ड नहीं है।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे