Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India आईजीएनपी प्रस्तावित नहरबंदी को लेकर बैठक पेयजल भण्डारण को लेकर प्लान बनाने के निर्देश - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Thursday, 24 December 2020

आईजीएनपी प्रस्तावित नहरबंदी को लेकर बैठक पेयजल भण्डारण को लेकर प्लान बनाने के निर्देश

श्रीगंगानग। इंदिरा गांधी नहर परियोजना में माह मार्च-मई 2021 के दौरान प्रस्तावित 70 दिवस की नहरबंदी के समय पेयजल व्यवस्था की कार्य योजना बनाए जाने को लेकर जिला कलक्टर महावीर प्रसाद वर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाहाॅल में गुरूवार को बैठक आयोजित की गई।

जिला कलक्टर  वर्मा ने बताया कि प्रस्तावित नहरबंदी के दौरान 40 दिन की आंशिक नहरबंदी व 30 दिन की पूर्ण रूप से नहरबंदी की जायेगी। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था बरकरार रखने के लिये जिला प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद रहेगा व कार्य योजना बनाकर ही नहरबंदी ली जायेगी। उन्होंने बताया कि जिले की सभी पेयजल परियोजनाओं के अलावा जो भी जल भण्डारण की डिग्गियां व स्त्रोत है, उनको पूर्णतः भरा जायेगा, जिससे नहरबंदी के दौरान पेयजल की समस्या न हो। ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायतों की डिग्गियां, काश्तकारों की डिग्गियां तथा पशुधन के पीने के लिये काम में ली जाने वाली डिग्गियों में जो भण्डारण योग्य है व अन्य सभी जल संसाधनों में जल भण्डारण किया जायेगा।
नहरबंदी शुरू होने से पूर्व यह व्यवस्था कर ली जायेगी। अवैध पानी की चोरी रोकने के लिये पुलिस व प्रशासन के सहयोग से कार्य किया जायेगा। जिला कलक्टर ने सभी विभागों को पूर्ण समन्वय व जिम्मेदारी से कार्य करने के लिये कहा है ताकि आमजन को पेयजल से संबंधित कोई परेशानी न उठानी पड़े। उन्होंने कहा कि सभी विभाग एक्शन प्लान बनाकर कार्य करे। जिला कलक्टर ने जल संसाधन विभाग को निर्देश दिये है कि विभाग की पेयजल परियोजनाओं में पानी की डिमांड तथा भण्डारण क्षमता के अनुरूप अपना पूरा प्लान तैयार करेंगे।
जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता प्रदीप रूस्तगी ने बताया कि कैनाल रेग्युलेशन चार्ट बनाकर कार्य किया जायेगा तथा आमजन को भी नहरबंदी के दौरान केवल उपलब्ध पानी को पेयजल के लिये काम में लेने हेतु जागरूक किया जायेगा। नहरबंदी के दौरान उपलब्ध पानी का सिंचाई के लिये उपयोग नहीं किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि जब पेयजल के लिये 2000 कियोस्क पानी उपलब्ध होगा, उस दौरान सिंचाई वाले आउटलेट बंद किये जायेंगे। जनता जल योजनाओं में पेयजल भण्डारण के लिये बनाये गई डिग्गियों के भण्डारण की माॅनिटरिंग संबंधित विकास अधिकारी व ग्राम सेवक द्वारा की जायेगी व पेयजल विभाग के चार्ट अनुसार जलापूर्ति की जायेगी।
बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन डाॅ. गुंजन सोनी, एसीईओ  मुकेश बारेठ, एसडीएम उम्मेद सिंह रतनू, पेयजल के अधीक्षण अभियंता  बलराम शर्मा, जोधपुर विधुत वितरण निगम के अधीक्षण अभियंता जे.एस.पन्नू, आईजीएनपी के अधीक्षण अभियंता रामसिंह के अलावा जिले के संबंधित क्षेत्रा के एसडीएम, विकास अधिकारियों ने भाग लिया। 

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे