Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India हाई रिस्क वाले व्यक्तियों का सर्वें व उपचार घर-घर सर्वें लगातार जारी रखें - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Monday, 17 May 2021

हाई रिस्क वाले व्यक्तियों का सर्वें व उपचार घर-घर सर्वें लगातार जारी रखें

 हाई रिस्क वाले व्यक्तियों का सर्वें व उपचार

घर-घर सर्वें लगातार जारी रखें
एसडीएम, ब्लाॅक स्तरीय अधिकारी नियमित रूप से सर्वें का निरीक्षण करेंगेः जिला कलक्टर
श्रीगंगानगर,। जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने कोविड-19 संक्रमण बचाव हेतु हाई रिस्क ग्रुप के व्यक्तियों की पहचान कर समुचित उपचार के दृष्टिगत घर-घर सर्वें कर चिन्हित मरीजों को आवश्यक दवाईयां उपलब्ध करवाने एवं उपचार को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किये है।
जिला कलक्टर ने बताया कि मुख्य सचिव राजस्थान सरकार के निर्देशों की अनुपालना में कोविड-19 संक्रमण से उत्पन्न वर्तमान स्थिति के परिपेक्ष में कोविड-19 संक्रमण से बचाव, रोकथाम, संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने एवं संक्रमण से होने वाली मृत्यु को न्यूनतम किये जाने, संक्रमण की प्रारम्भिक अवस्था में ही संक्रमित व हाई रिस्क ग्रुप के व्यक्तियों की पहचान कर उनका समय रहते प्राथमिकता के आधार पर समुचित उपचार के दृष्टिगत घर-घर सर्वें कर चिन्हित मरीजों को आवश्यक दवाईयां उपलब्ध करवाई जाये।
शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों मे डोर-टू-डोर सर्वे पहले से प्रभावी रूप से करवाये जाने और सर्वें में आईएलआई, एसएआरआई के लक्षणों वाले एवं सप्ताह भर से बीमार व्यक्तियों को अलग से चिन्हित किया जाये, उनके चिकित्सीय परीक्षण के उपरांत मेडिकल किट का वितरण किया जाना सुनिश्चित किया जाये। जिन क्षेत्रों में डोर-टू-डोर सर्वें यदि समाप्त हो गया है तो उस क्षेत्र में सर्वें का कार्य फिर से शुरू किया जाये एवं सर्वें कार्य को निरन्तर जारी रखा जाये। हाई रिस्क व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें चिन्हित किया जाकर मेडिकल किट का वितरण सुनिश्चित करे ताकि कोविड संदिग्ध व्यक्तियों, कोविड रोगियों को समय पर समुचित उपचार मिल सके।
श्री हुसैन ने बताया कि कोविड रोगी, अन्य रोगी को सर्वप्रथम सीएचसी, पीएचसी स्तर पर ही चिकित्सीय उपचार दिया जाये एवं यदि कोविड पेंशेंट अन्य रोगी की स्थिति गंभीर होने अथवा सीएचसी पर उपचार संभव नहीं होने की स्थिति में उक्त रोगी को जिला मुख्यालय के राजकीय चिकित्सालय को रेफर किया जाये ताकि जिला चिकित्सालय में अनावश्यक रेफरल वाले व्यक्तियों का भार कम हो सके। संबंधित एसडीएम, ब्लाॅक स्तरीय अधिकारीगण द्वारा नियमित रूप से डोर-टू-डोर सर्वें का निरीक्षण किया जाये एवं निरीक्षण रिपोर्ट प्रतिदिन जिला प्रशासन को भिजवाना सुनिश्चित करेंगे।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे