Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India युवाओं को फास्टफूड व जंकफूड की आदतों को छोडना होगा: पुलिस अधीक्षक - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Sunday, 1 August 2021

युवाओं को फास्टफूड व जंकफूड की आदतों को छोडना होगा: पुलिस अधीक्षक

घर-घर औषधि योजना

जिला स्तरीय समारोह का आयोजन
भारत प्राकृतिक रूप से समृद्धशाली: विधायक श्री गौड़
राजस्थान सरकार की यह अभिनव योजना: जिला कलक्टर
युवाओं को फास्टफूड व जंकफूड की आदतों को छोडना होगा: पुलिस अधीक्षक
श्रीगंगानगर,। गंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड ने कहा कि राजस्थान सरकार की घर-घर औषधि योजना एक महत्वपूर्ण योजना है। उन्होने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री ने निरोगी राजस्थान का जो नारा दिया था, वह नारा घर-घर औषधि योजना से साकार होगा।
श्री गौड़ रविवार को टांटिया यूनिवर्सिटी में राजस्थान सरकार की घर-घर औषधि योजना की शुरूआत से संबंधित जिला स्तरीय कार्यक्रम एवं 72 वां वन महोत्सव कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होने कहा कि भारत प्राकृतिक रूप से समृद्धशाली है। हिन्दुस्तान जैसी सम्पदा अन्य देशों में नही है। इस सम्पदा को नष्ट करने व दोहन करने में कमी नही छोडी। उन्होने कहा कि प्रकृतिक ने हमे बहुत दिया है, उसे नुकसान न पहुंचाकर आने वाली पीढ़ियों के लिए संजोगकर रखना है। उन्होने कहा कि हमारे पूर्वजों ने पीपल, नीम, इत्यादि व औषधिय पौधो की परम्परा को बनाए रखा है। उन्होने कहा कि प्रत्येक नागरिक को पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधे लगाने चाहिए। उन्होने कहा कि युवाओं के हाथों में देश का भविष्य है। हमे पर्यावरण संरक्षण के लिए अधिक ध्यान देना चाहिए।
श्री गौड़ ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जो कहते है, वो पूरा करते है। उन्होने ढाई वर्ष पूर्व जो घोषणाए की थी, उनमें से 60 प्रतिशत से ज्यादा घोषणाएं पूरी हो चुकी है। उन्होने आमजन से अनुरोध किया कि प्रत्येक नागरिक को पौधे लगाकर बच्चें की तरह परवरिश करनी चाहिए। उन्होने कहा कि गिलोय, तुलसी, कालमेघ तथा अश्वगंधा के पौधे हर घर में होने चाहिए। भारत में सदियों से इन औषधिए पौधे का उपयोग किया जा रहा है। उन्होने कहा कि राज्य में 1.26 करोड परिवारों को आने वाले 5 वर्ष मे 8-8 पौधे हर घर को दिए जाएंगे।
श्री गौड ने कोविड-19 पर चर्चा करते हुए कहा कि हमने प्रथम व द्धितीय लहर का प्रकोप झेला है, लेकिन जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, चिकित्सक, नर्सिंंग, सामाजिक संस्थाओं तथा जनप्रतिनिधियों के सहयोग से हम कोरोना से जीत पाए है। उन्होने कहा कि जिले में व्यवस्थाओं, दवाओं व आॅक्सीजन की कमी नही आने दीै। सभी राजकीय व निजी चिकित्सालयों ने मन सेवा की है।
जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने कहा कि 72 वां वन महोत्सव एवं घर-घर औषधि योजना की शुरूआत 11.30 बजे माननीय मुख्यमंत्री ने वीसी के मध्यम से की है। उन्होने कहा कि हर घर को 4 प्रकार के पौधे दिए जाएंगे। घर-घर औषधि योजना की शुरूआत आज जिले में की जा चुकी है। घरो तक पौधे पहुंचाने के लिए जिले में व्यापक योजना तैयार कर ली गई है। राजस्थान सरकार की यह अभिनव योजना है। यह पहला राज्य है जहां औषधिय पौधे घर-घर वितरित किए जा रहे है। जिला कलक्टर ने कहा कि इन पौधो को लगाने के साथ-साथ उनकी देखभाल व संरक्षण किया जाए। उन्होने कहा कि पहला सुख निरोगी काया के लिए औषधिय पौघो की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होने कहा कि स्वयं पौधे लगाए व अन्य को प्रेरित करे।
पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यन्त ने कहा कि घर-घर औषधि योजना एक उपयोगी कार्यक्रम है। उन्होने कहा कि वर्तमान समय में जनरेशन गैप आ रहा है, उसे मिटाना होगा, युवाओं में फास्टफूड व जंकफूड की आदतों को छोडना होगा, क्योकि ये स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। कोविड-19 के दौरान इम्युनिटी बढाने पर जोर दिया गया। कोविड के दौरान औषधिय पौधो का काडा घर-घर बनने लगा, जिससे लोगों में इम्यूनिटी बढी। वर्तमान दौर में नागरिक घरों में औषधिय पौधे लगा रहे है। उन्होने कहा कि हर घर में औषधिय पौधे व अन्य पौधे लगाने चाहिए।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अशोक कुमार मीणा ने कहा कि जिले में 4.25 लाख परिवार चिन्हित किए गए है, जिनमें से 50 प्रतिशत परिवार को इस वर्ष पौधे दिए जाएंगे। 344 ग्राम पंचायतों में इस वर्ष 2.11 लाख औषधि पौधे दिए जाएंगे। जिले में 22 नर्सरियों में पौधे तैयार किए गए है तथा घर-घर पहुंचाने का प्लान बना लिया गया है।
उपवन संरक्षक श्री आशुतोष औझा ने कहा कि पर्यावरण को नष्ट करने के लिए अंधा धुध वनो का दोहन किया गया। पर्यावरण प्रदूषण बढ रहा है। आॅक्सीजन की कमी से कोविड-19 के रोगियों को तडफते देखा है। उन्होने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए वनो की रक्षा के साथ-साथ पेडो व औषधिय पौधे घर-घर लगाए जाए। उन्होने कहा कि वन महोत्सव एक दिन नही 365 दिन मनाया जाए।
जिला स्तरीय कार्यक्रम में डाॅ0 राजकुमार ने औषधिय पौधो के महत्व पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला। यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर प्रवीण शर्मा ने धन्यवाद ज्ञापित किया तथा वीसी प्रोफेसर एम.एम. शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम से पूर्व विधायक श्री गौड़, जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन तथा पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यन्त ने पौधारोपण किया। वन विभाग द्वारा तैयार किए गए पोस्टर का विमोचन किया तथा अतिथियों व नागरिकों को औषधिय पौधे वितरित किए गए।
आयोजित कार्यक्रम में नगर परिषद आयुक्त श्री सचिन यादव, उपनिदेशक आयुर्वेद श्री हरिन्द्र दावडा, श्री मोहित टांटिया, स्काउट मोनिका यादव, पेयजल के अधीक्षण अभियन्ता श्री धीरज चावला, बीडीओ श्री जीतेन्द्र खुराना सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे