Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन बालक-बालिकाओं को आगे बढ़ने का समान अवसर देंः- जिला कलक्टर - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Saturday, 25 January 2020

राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन बालक-बालिकाओं को आगे बढ़ने का समान अवसर देंः- जिला कलक्टर


श्रीगंगानगर। जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि अभिभावकों को लड़के व लड़कियों को आगे बढ़ने के समान अवसर प्रदान करने चाहिए। उन्होंने कहा कि लड़कियां वर्तमान में हर क्षेत्रा में बखुबी से अपने कार्यों को पूरा कर रही है। 
जिला कलक्टर शुक्रवार को राजकीय कन्या विधालय मटका चैक में आयोजित राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि लड़कियां सभी प्रकार के कार्य करने में सक्षम है, सिर्फ उन्हें प्रोत्साहन करने व अवसर प्रदान करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जिन बालिकाओं ने शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है, उन्हें 5000 रूपये से 20000 रूपये तक की प्रोत्साहन राशि दी गई है। जिन बालिकाओं ने शिक्षा में अच्छे अंक प्राप्त किये है, इन बालिकाओं से अन्य बच्चियों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए। 
श्री नकाते ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन का उद्देश्य बालिकाओं को बढ़ावा देना है तथा समाज में लड़का व लड़की के भेद को दूर करना है। जिन महिलाओं ने एक या दो बच्ची के जन्म पर परिवार कल्याण को अपनाया है या एक या दो बच्चों पर पुरूष ने परिवार कल्याण को स्वीकार किया है, उन्हें भी पुरस्कृत किया गया है। उन्होंने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है, इसी बात को ध्यान में रखते हुए ऐसी महिलाओं व पुरूषों को सम्मान दिया जा रहा है। कन्या भू्रण हत्या रोकने के लिये पीसीपीएनडीटी का प्रावधान है तथा कई सफल डिकाय आॅपरेशन भी किये गये है। 
बाल कल्याण समिति की सदस्य श्रीमती प्रभा शर्मा ने कहा कि अभिभावकों को जितना हो सकें, बच्चियों का सहयोग करना चाहिए, जिससे वे आगे बढ़कर स्वावलम्बी बन सकें। बालिकाओं को मजबूती प्रदान करने के लिये माताएं अपनी भूमिका निभाएं। बालिकाओं को बढ़ावा देने के संबंध में उन्होंने जीने का अधिकार, सहभागिता के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि लिंगानुपात को बराबर लाने के लिये जनजागरूकता की आवश्यकता है। 
आयोजित कार्यक्रम में चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक दो बच्चियों पर परिवार कल्याण अपनाने वाली 15 महिलाओं को एक-एक मिक्सी तथा इसी प्रकार एक दो बच्चों पर 38 पुरूषों द्वारा परिवार कल्याण अपनाने पर उन्हें एक-एक मोबाईल फोन पुरस्कार स्वरूप दिया गया। इसी प्रकार शिक्षा के क्षेत्र में कक्षा 10 में अच्छे अंक प्राप्त करने वाली प्रथम दस बालिकाओं को पांच-पांच हजार तथा सर्वोच्च अंक वाली एक छात्रा को 20 हजार रूपये की राशि दी गई। इसी प्रकार कक्षा 12 में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली 10 बालिकाओं को पुरस्कार स्वरूप पांच-पांच हजार रूपये तथा सर्वोच्च अंक वाली एक छात्रा को 20 हजार रूपये की नगद राशि (बैंक खाते के माध्यम से) तथा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। 
इस अवसर पर महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक श्री विजय कुमार ने राष्ट्रीय बालिका दिवस पर प्रकाश डालते हुए जिले में बालिका प्रोत्साहन के लिये किये जा रहे कार्यों की जानकारी ली। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. गिरधारी लाल, उधोग केन्द्र के महाप्रबंधक श्री हरीश मित्तल, विधालय के प्रधानाचार्य श्री नरेश कुमार ने भी राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला कलक्टर तथा अन्य अतिथियों को पौधे भेंट कर सम्मान किया गया। कार्यक्रम स्थल पर लगाई गई सेल्फी बूथ का भी छात्राओं ने उपयोग किया तथा सेल्फियां ली। राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर लियाकत एण्ड पार्टी ने भी बालिका प्रोत्साहन से संबंधित लोकगीत प्रस्तुत किये। कक्षा 12 की छात्रा रिशीका ने बालिकाओं में तनाव के संबंध में प्रकाश डाला तथा किसी प्रकार का तनाव नजर आने पर निसंकोच चिकित्सक का परामर्श लेना चाहिए। 

No comments:

Post a comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे