Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India रासलाना वितरिका के 29 से 06 जुलाई तक चले रेगुलेशन में पानी चोरी की नहीं हुई एक भी घटना - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Tuesday, 6 July 2021

रासलाना वितरिका के 29 से 06 जुलाई तक चले रेगुलेशन में पानी चोरी की नहीं हुई एक भी घटना

 रासलाना वितरिका के 29 से 06 जुलाई तक चले रेगुलेशन में पानी चोरी की नहीं हुई एक भी घटना

पानी चोरी रोकने को लेकर जिला कलक्टर श्री नथमल डिडेल ने राउंड-द-क्लॉक 27 सुपरवाइजरी अधिकारियों की लगाई थी ड्यूटी 
अधिकारियों ने भी तपती गर्मी में राउंड-द-क्लॉक की ड्यूटी ताकि किसानों को उनके हक का पूरा पानी मिले

हनुमानगढ़,। जिला कलक्टर श्री नथमल डिडेल ने कहा कि सिद्धमुख नहर परियोजना की रासलाना वितरिका के 29 जून से 06 जुलाई तक चले रेगुलेशन के दौरान पानी चोरी की एक भी घटना नहीं होने दी गई। उन्होने बताया कि पानी चोरी रोकने को लेकर 25 जून को आदेश जारी कर 27 सुपरवाइजरी अधिकारियों की राउंड-द-क्लॉक ड्यूटी लगाई थी ताकि नहर से पानी चोरी ना हो और किसानों को उनके हक का पूरा पानी मिले। अधिकारियों ने भी तपती गर्मी में अपनी ड्यूटी बखूबी निभाई और पानी चोरी की एक भी घटना नहीं होने दी।    जल संसाधन विभाग भादरा के अधीक्षण अभियंता श्री अनिल कुमार कैथल ने बताया कि इस बार रासलाना वितरिका के 29 जून से 06 जुलाई तक रेगुलेशन के दौरान हालांकि पीछे से पानी की कुछ कमी रही लेकिन बावजूद इसके पानी चोरी की एक भी घटना नहीं हुई। जिला कलक्टर ने जिन अधिकारियों की राउंड-द-क्लॉक ड्यूटी लगाई थी। उन्होने तपती गर्मी में अपनी ड्यूटी की। खास बात ये कि 27 सुपरवाइजरी अधिकारियों में सिंचाई विभाग के अधिकारियों के अलावा जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक, अतिरिक्त शिक्षा अधिकारी माध्यमिक व प्रारंभिक, मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, मत्सस्य अधिकारी, श्रम कल्याण अधिकारी,महिला एवं बाल विकास विभाग के उपनिदेशक, सहायक खनिज अधिकारी,पीडब्ल्यूडी के अधिशाषी अभियंता, पीएचईडी के अधिशाषी अभियंता तक शामिल थे।
                                 नोहर विधायक श्री अमित चाचाण ने बताया कि इस बार रासलाना वितरिका में हरियाणा से बहुत कम पानी मिला। जहां 400 क्यूसेक पानी की आवश्यकता थी  पीछे से 200 क्यूसेक पानी ही मिला।मुख्य नहर में ही पानी चल पाया, माइनरों में पानी बहुत कम पहुंच पाया। फिर भी रेगुलेशन के दौरान अधिकारियों ने राउंड-द-क्लॉक ड्यूटी की और पानी चोरी की घटना नहीं होने दी।                                    
                                 जिला कलक्टर श्री डिडेल ने बताया कि रासलाना वितरिका में गत वर्षों में पानी चोरी की घटनाओं को देखते हुए 64 किलोमीटर लंबी रासलाना वितरिका को 9 हिस्सों में बांटते हुए 27 अधिकारियों की राउंड- द- क्लॉक ड्यूटी लगाई गई थी। साथ ही सुपरवाइजरी अधिकारियों के साथ पुलिस का 1+2 का जाप्ता लगाया गया था। इसके अलावा भादरा एसडीएम को सभी अधिकारियों के साथ एक-एक गिरदावर की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए गए थे।सिंचाई विभाग की टीम को भी लगाया गया था। सभी अधिकारियों, कार्मिकों ने कोविड गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित करते हुए राउंड-द-क्लॉक ड्यूटी निभाई। जिसका नतीजा ये हुआ कि पानी चोरी की एक भी घटना नहीं होने दी गई। सभी अधिकारियों के ठहरने की व्यवस्था भादरा एसडीएम के द्वारा की गई।  ड्यूटी के दौरान सुपरवाइजरी अधिकारियों ने फोटोग्राफ्स भी टीम हनुमानगढ़ वाट्सअप ग्रुप पर शेयर किए।  
                                 गौरतलब है कि इससे पहले 12 से 20 जनवरी 2021 तक चले रेगुलेशन के दौरान तत्कालीन जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने सिद्धमुख नहर परियोजना की रासलाना वितरिका में पानी चोरी रोकने को लेकर पहली बार राउंड द क्लॉक अधिकारियों की ड्यूटी लगाई थी। अधिकारियों ने हाड़कंपाती ठंड में रात-दिन नहर की पहरेदारी की तो नहर बनने के 18 साल बाद रासलाना वितरिका के टेल के किसानों को उनके हक का पूरा पानी मिला था। रासलाना वितरिका से अवैध पाइप लाइनों के जरिए पानी हरियाणा में बेचा जा रहा था साथ ही स्थानीय किसान भी पानी चोरी कर रहे थे। उस पर पूरी तरह अंकुश लगा दिया गया था। माननीय मुख्यमंत्री ने भी पीलीबंगा आगमन के दौरान इस कार्य को लेकर तत्कालीन जिला कलक्टर की प्रशंसा की थी।
                                वर्ष 2014 में तत्कालीन जिला कलक्टर श्री पीसी किसन ने राजस्थान की नहर से पानी चोरी कर हरियाणा में बेचने का मुद्दा पहली बार तत्कालीन सरकार के सामने 8-9 जनवरी 2014 को जयपुर में हुई कलक्टर-एसपी कॉन्फ्रेंस में उठाया तो तत्कालीन मुख्यमंत्री ने नहरी पानी चोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे।  लिहाजा 1 से 5 फरवरी 2014 को तत्कालीन जिला कलक्टर ने पानी चोरों के खिलाफ पांच दिवसीय अभियान चलाकर नहर किनारे बनाए गए अवैध कुएं और खेतों में दो-तीन फीट नीचे बिछाई गई अवैध पाइप लाइनों को उखाड़कर पानी चोरों की कमर तोड़ी थी। उस समय नहर बनने के बाद टेल के किसानों को पहली बार पानी नसीब हुआ। लेकिन उनके हक का पूरा पानी तब भी नहीं मिल पाया। 
                               अब नोहर विधायक श्री अमित चाचाण ने रासलाना वितरिका से पानी चोरी के मुद्दे को लेकर नहर किनारे टेंट लगाकर नहर की निगरानी करने से लेकर जिला प्रभारी मंत्री और मुख्यमंत्री तक इस मुद्दे को उठाया तो तत्कालीन  जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने पुलिस और प्रशासन के उच्चाधिकारियों के साथ मिलकर नई रणनीति बनाते हुए अवैध पाइप लाइनों को तोड़ने के बजाय रासलानी वितरिका के रेगुलेशन 12 जनवरी से 20 जनवरी तक के लिए नहर की निगरानी के लिए राउंड द क्लॉक पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की ड्यूटी लगाकर पानी चोरी पर पूर्णतय अंकुश पाया था।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे