Report Exclusive, Lok Sabha Elections 2019: Latest News, Photos, and Videos on India General Elections, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India शिक्षण संस्थाओं में चालक, परिचालक रखने से पूर्व उनका पुलिस वेरीफिकेशन तथा चरित्र प्रमाण पत्र लिये जाये - जिला कलेक्टर - Report Exclusive

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Tuesday, 14 May 2019

शिक्षण संस्थाओं में चालक, परिचालक रखने से पूर्व उनका पुलिस वेरीफिकेशन तथा चरित्र प्रमाण पत्र लिये जाये - जिला कलेक्टर


  • शिक्षा प्रदान कर आगे बढाने वाला प्लेटफार्म शिक्षण संस्थाएं
  • शिक्षा राष्ट्र के अच्छे नागरिक बनाती हैः- जिला कलक्टर

श्रीगंगानगर।(सतवीर मेहरा) जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि शिक्षा केवल आजीविका का जरिया नही, अपितु शिक्षा राष्ट्र के अच्छे नागरिक बनाती है। बच्चों को अच्छी शिक्षा प्रदान कर आगे बढाने वाला प्लेटफार्म शिक्षण संस्थाएं है।
जिला कलक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में विभिन्न शिक्षण संस्थाओं, अभिभावकों व जागरूक नागरिकों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यह जिला 1920 के बाद अस्तित्व में आया। इस कारण यहां हर वर्ग के नागरिक सकारात्मकता के साथ निवास करते है। नागरिकों की सकारात्मकता से यह क्षेत्रा आगे बढ रहा है। शिक्षा का स्तर अच्छा होने के कारण इस जिले के छात्रों के अलावा बाहरी जिलां व राज्यों के बच्चे भी पढने के लिये यहां आते है। बच्चें हमारे देश का भविष्य है तथा राष्ट्र निर्माण की नींव शिक्षा है।
बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि हमारी प्राथमिकता बच्चों की सुरक्षा है, इसके लिये शिक्षण संस्थाओं में एक्टिव सीसी टीवी कैमरे स्थापित किये जाये तथा समय-समय पर उनकी फुटेज देखे जाये। उन्होंने बताया कि गंगानगर शहर में भी लगभग 200 सीसी टीवी कैमरे स्थापित करने की कार्यवाही की जा रही है, जिन्हें अभय कमाण्ड के माध्यम से मॉनिटरिंग होगी। छात्रों के उपयोग वाले वाहनों में जीपीएस सिस्टम विकसित किया जाये। शिक्षण संस्थाओं में चालक, परिचालक रखने से पूर्व उनका पुलिस वेरीफिकेशन तथा चरित्रा प्रमाण पत्रा लिये जाये तथा प्रत्येक 6 माह में रि-वेरीफाई करवाये जाये। उन्होंने सुझाव दिया कि पेरेन्टस् मिटिंग में अभिभावकों की बातों को ध्यान से सुना जाये। शिक्षण संस्थाएं परिचालक रखते समय महिला परिचालकों को प्राथमिकता दी जाये।
श्री नकाते ने कहा कि बालवाहिनी के दिशा निर्देशों की पालना सभी शिक्षण संस्थाओं को करनी होगी। समय की उपयोगिता होनी चाहिए, लेकिन वाहनों को थोडा समय पहले रवाना करने की आदत डाली जाये। सभी शिक्षण संस्थाओं को सरकार के नियमों व निर्देशों की पालना करनी होगी। समय-समय पर सरकार व जिला प्रशासन द्वारा जारी निर्देश सभी पर लागू होते है। फीस बढोतरी का निर्णय विधालय समिति स्तर पर होता है, लेकिन 10 प्रतिशत से अधिक फीस बढोतरी का प्रावधान नही है।
पुलिस अधीक्षक श्री हेमन्त शर्मा ने कहा कि जिले में संचालित सभी शिक्षण संस्थाओं को बालवाहिनी के नियमों की अक्षरशः पालना सुनिश्चित करनी होगी। बालवाहिनी के नियमों, निर्देशों की पालना से कोई समझौता नही होगा। चालक, परिचालक निर्धारित वर्दी में होगें। बालवाहिनी पर चालक, परिचालक के नाम के अलावा विभिन्न हैल्पलाईन के नम्बर अंकित होने चाहिए। बालवाहिनी के निर्देशों की पालना नही करने पर संबंधित शिक्षण संस्थान उतरदायी होगी।
बैठक में विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के प्रबंधकों, अभिभावकों तथा जागरूक नागरिकों ने बच्चों की सुरक्षा, बच्चों की फीस, फीस बढोतरी, छुट्टियों के दौरान ली जाने वाली फीस के संबंध में अपने-अपने विचार व्यक्त किये। बैठक में एडीएम शहर श्री राजवीर सिंह, एसडीएम श्री मुकेश बारहठ, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री सुरेन्द्र सिंह, सीओ सीटी श्री स्माईल खान सहित जिले की विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के प्रधानाचार्यो, प्रबंधकों, अभिभावकों व शहर के जागरूक नागरिकों ने भाग लिया। 

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे