Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India राजस्थान में कोच्चि NIA की छापेमारी,मामला युद्धपोत आईएनएस विक्रांत से जुड़े होने की आशंका! - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Wednesday, 10 June 2020

राजस्थान में कोच्चि NIA की छापेमारी,मामला युद्धपोत आईएनएस विक्रांत से जुड़े होने की आशंका!


हनुमानगढ़(कुलदीप शर्मा) जिले में कोच्चि की NIA टीम ने छापेमारी करते हुए एक सन्दिग्ध को हिरासत में लिया है। मामला देश के किसी बड़े युद्धपोत में चोरी के मामले से जुड़ा हुआ है। पुलिस सूत्रों के अनुसार जिले की नोहर तहसील से एक सन्दिग्ध को कोच्चि की NIA टीम द्वारा हिरासत में लेने की बात सामने आ रही है। इस छापेमारी के चलते जिसने भी सुना अचंभित ही नजर आ रहा है। इस छापेमारी के पीछे अंदेशा लगाया जा रहा है कि सितंबर 2019 को केरल के कोच्चि शिपयार्ड से भारत के पहले स्वदेशी युद्ध जहाज INS Vikrant की चार महत्वपूर्ण डिवाईश चोरी हुई थी जिसको लेकर केरल कोच्चि में इसकी जांच NIA के पास थी। अब इसी मामले को लेकर इसका तार राजस्थान के हनुमानगढ़ से जुड़े होने के आसार जताए जा रहे है। फिलहाल इस मामले में सिर्फ इतना ही समझ आ रहा है कि शायद इसी मामले के चलते नोहर से एक सन्दिग्ध को हिरासत में लिया गया है। हालांकि इसको लेकर स्थानीय पुलिस से जानकारी चाही तो उनके पास ऐसी किसी जानकारी का नहीं होना जवाब मिला। हालांकि इस बात का पूरा खुलासा तो तभी सम्भव हो पायेगा जब पुलिस या NIA इस मामले में कोई खुलासा करेगी। अब नोहर से सन्दिग्ध की हिरासत के बाद ये भी सवाल उठने लगा है कि आखिर हिरासत में लेने वाले व्यक्ति का इस मामले में क्या हाथ है। 

क्या था INS Vikrant से जुड़ा मामला
देश के पहले स्‍वदेशी युद्धपोत INS Vikrant के 4 डिजिटल डिवाइस केरल के कोच्‍चि शिपयार्ड से सितंबर 2019 में चोरी हो गए थे। ये डिवाइस अहम पार्ट्स बताए जा रहे थे। INS Vikrant को 2021 में भारतीय नौसेना में शामिल किया जाना है। इसे अभी तैयार किया जा रहा था जिसके बीच चोरी की घटना हो गयी थी।

INS Vikrant की है ये खासियत
बता दें कि INS विक्रांत का निर्माण पूरी तरह से भारत में हो रहा है। अभी विश्व में अमेरिका, ब्रिटेन, रूस और फ्रांस के पास ही इस तरह की युद्धपोत की क्षमता है। INS Vikrant करीब 40 हजार टन का पोत है। 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में ब्रिटेन से लिए गए INS Vikrant ने दुश्मनों के छक्के छुड़ा दिए थे। स्वदेशी विक्रांत 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से एक बार में 7,500 नॉटिकल मील की दूरी तय कर सकता है। INS Vikrant पर मिग-29 की तैनाती होगी। इस पर करीब 25 से 30 लड़ाकू विमान तैनात होंगे, जिनमें 12 मिग-29, 8 तेजस विमान और 10 एंटी-सबमरीन हेलीकॉप्टर होंगे।

No comments:

Post a comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे