Report Exclusive, Lok Sabha Elections 2019: Latest News, Photos, and Videos on India General Elections, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India Report Exclusive सरदारशहर:- ईनामी बदमाश सुभाष बानूड़ा को कई थानों की पुलिस ने घेरा डालकर पकड़ा,दो साथी फरार हुए - Report Exclusive

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Sunday, 31 March 2019

Report Exclusive सरदारशहर:- ईनामी बदमाश सुभाष बानूड़ा को कई थानों की पुलिस ने घेरा डालकर पकड़ा,दो साथी फरार हुए


चूरू। प्रदेश के एक कुख्यात अपराधी सुभाष बानूड़ा को पुलिस ने शुक्रवार रात को चूरू जिले में पिस्टल की नोक पर कार लूटकर फरार होते हुए ग्रामीणों की मदद से पकड़ लिया। उसके दो साथी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग जाने मेें कामयाब हो गये। सीकर के इनामी बदमाश सुभाष बानूड़ा को कई थानों की पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से घेराबंदी कर पकडऩे में सफलता हासिल की है। सुभाष बानूड़ा के कब्जे से लूटी गई कार, एक पिस्टल व तीन कारतूस भी जब्त किए हैं। चूरू जिले में सरदारशहर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश शर्मा ने बताया कि कस्बे के वार्ड 19 निवासी रमेश पुत्र सांवतराम के पास मारूति स्विफ्ट कार है, जिसको उसका भाई रणवीर चलाता है।

शुक्रवार देर शाम तीन जने आए और सरायण (तारानगर) जाने के लिए कार को किराए पर किया। कार रवाना होते ही हरपालसर फांटे के पास उक्त लोगों ने रणवीर की कनपटी पर पिस्तोल लगा दी। कार रूकवाकर रणवीर से मारपीट की तथा आंखों के पट्टी बांधकर कार में पीछे की सीट पर डाल दिया। दो जने उसके अगल-बगल में बैठ गये और तीसरा गाड़ी चलाने लगा। सारायण गांव के पास इन तीनों बदमाशों ने ड्राइवर रणवीर को नीचे उतारा। उसे धमकाकर पूछा कि कार में जीपीएस सिस्टम तो नहीं लगा। रणवीर ने बताया कि ऐसा कोई सिस्टम गाड़ी में नहीं है। तब वे रणवीर को पास के खेत में पटक कर चले गए।

 वहां पर रणवीर ने आंखों की पट्टी खोलकर गुजर रहे लोगों से इलाके के बारे में जानकारी ली। उनमेें से किसी से मोबाइल फोन लेकर परिजनों व पुलिस को सूचना दी। घटना की सूचना मिलते ही सरदारशहर डीएसपी भंवरलाल मेघवाल, थानाधिकारी रणवीर साईं व भानीपुरा थानाधिकारी मलकीयतसिंह के नेतृत्व में पुलिस टीमों ने इलाके की नाकाबंदी कर ली। पुलिस को कार लुटेरों की लोकेशन भानीपुरा इलाके में होने की जानकारी मिली। पुलिस ने भानीपुरा इलाके में इनको घेरने का प्रयास किया तो उन्होंने गाड़ी को साडासर-महाजन लिंक रोड की तरफ दौड़ा दिया। पुलिस की टीमें इस गाड़ी के पीछे दौड़ती रहीं।

साडासर-महाजन लिंक रोड पर नैनासर सुमारिया के ग्रामीणों ने पुलिस द्वारा सूचना दिये जाने पर लुटेरों की कार को रोकने के लिए सडक़ पर अवरोधक लगा दिये। आगे रास्ता बंद देखकर तीनों लुटेरे कार छोडक़र भाग खड़े हुए। पीछे से आई पुलिस टीमों ने गांव वालों की मदद से घेरा डाला, जिसमें एक पकड़ में आ गया, जबकि दो नहीं मिले। पकड़े जाने पर पता चला कि यह युवक कुख्यात अपराधी एवं दस हजार का ईनामी सुभाष बानूड़ा है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश कुमार शर्मा ने बताया कि गिरफ्त में आया सुभाष बानूड़ा सीकर पुलिस का दस हजार रुपए का इनामी बदमाश है। उससे प्वाइँट 9 एमएम का एक पिस्टल और तीन कारतूस बरामद हुए हैं। इसके साथ रानोली थाने का हिस्ट्रीशीटर वीरेन्द्र उर्फ वीरू और पांच हजार रुपए का इनामी शक्तिसिंह भी थे। एएसपी शर्मा ने बताया कि बानूड़ा दो फायरिंग की घटनाओं में भी वांछित है। वीरू तथा शक्तिसिंह पर भी कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। पकड़े जाने पर सुभाष बानूड़ा ने पुलिस को बताया कि सीकर में पिछले दिनों की गई फायरिंग के बाद से वे इधर-उधर छुपकर फरारी काट रहे थे। फरारी काटने के लिए उन्हें एक वाहन की जरूरत थी, जिसके लिए उन्होंने कल शाम को सरदारशहर से मारूति स्विफ्ट को किराये पर किया था।


25 किमी क्षेत्र मेें सघन सर्चिंग
रात को सुभाष बानूड़ा के पकड़े जाने के बाद उसके दोनों साथियों वीरेन्द्र उर्फ वीरू तथा शक्तिसिंह को पकडऩे के लिए आज सुबह तक पुलिस की कई टीमें 25 किमी क्षेत्र में सघन सर्चिंग करती रही। भानीपुरा, महाजन और सरदारशहर थानों की सीमाओं के साथ लगते नैनासर सुमारिया गांव के आसपास डीएसपी भंवरलाल और थानाप्रभारी रणवीर साईं की टीमों ने वीरू और शक्ति को पकडऩे के लिए उनके पद्चिह्नों का लगभग 25 किमी तक पीछा किया। इसके बाद पद्चिह्न नहीं दिखाई दिये। पुलिस की इन टीमों ने आसपास के सभी गांवों और ढाणियों में तलाशी अभियान भी चलाया। कार लूट का मामला सरदारशहर थाना में दर्ज किया गया है। सुभाष बानूड़ा के हथियार सहित पकड़े जाने का मामला भानीपुरा थाना में दर्ज हुआ है, जिसमें उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।


पिता के बाद पुत्र जुर्म की दुनिया में उतरा
पुलिस की गिरफ्त में आया युवा सुभाष बानूड़ा अपने पिता की हत्या का बदला लेने के लिए जुर्म की दुनिया में उतर आया था। कुख्यात बदमाश आनंदपाल और राजू ठेहट गिरोहों की आपसी गैंगवार और दुश्मनियों के चलते तीन-चार वर्ष पहले बीकानेर जेल में गोलियां चल गई थीं। इस दौरान आनंदपाल को बचाते हुए सुभाष बानूड़ा के पिता बलवीर बानूड़ा के गोलियां लग गई, जिससे उसकी मौत हो गई थी। इसके कुछ अरसे बाद सुभाष बानूड़ा अपराध की दुनिया में राजू ठेहट गैंग से बदला लेने के लिए उतर आया। सीकर जिले में रामगढ़ तहसील क्षेत्र के गांव बानूडा का निवासी सुभाष महज 19 वर्ष का है।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे