Report Exclusive, Corona Update: Latest News, Photos, and Videos on India corona update, Hindi News, Latest News in Hindi, Breaking News, हिन्दी समाचार -India राष्ट्रीय लोक अदालत का हुआ आयोजन - Report Exclusive expr:class='data:blog.pageType'>

Report Exclusive - हर खबर में कुछ खास

Breaking

Saturday, 10 July 2021

राष्ट्रीय लोक अदालत का हुआ आयोजन

 राष्ट्रीय लोक अदालत का हुआ आयोजन



श्रीगंगानगर, । राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (राजस्थान उच्च न्यायालय परिसर) जयपुर एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (जिला एवं सेशन न्यायाधीश)  अध्यक्ष श्री चन्द्रशेखर शर्मा के निर्देशानुसार श्रीगंगानगर न्याय क्षेत्र में 10 जुलाई 2021 शनिवार को वर्ष 2021 की प्रथम राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया।
 जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्रीगंगानगर एवं (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश) श्रीगंगानगर के सचिव श्री पवन कुमार वर्मा ने बताया कि लोक अदालत के सफल आयोजन हेतु समस्त जिले के लिये कुल 17 बैंचेज का गठन किया गया। राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 4401 प्रकरण रखे गये जिनमें 1538 प्रकरण प्रिलिटिगेशन के थे। इन बैंचों में कोविड प्रोटोकाॅल की पालना करते हुए पक्षकारान में आपसी समझाईश करवाई गई। पक्षकारान ने लोक अदालत में पूर्णतया बढचढ कर भाग लिया। राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से न्यायालयों में लंबित कुल 906 प्र्रकरणों को निस्तारित किया जाकर कुल 6,79,33,083 रूपये का अवार्ड पारित किया गया। इसी प्रकार बैंक ऋण तथा बीएसएनएल के कुल 35 प्रकरणों का निस्तारण राजीनामें से कर कुल 76,30,422 रूपये अवार्ड राशि पारित की गई।
राष्ट्रीय लोक अदालत मंे राजी होकर एक साथ घर लौटे पति-पत्नी
राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार राष्ट्रीय लोक अदालत के अवसर पर बैंच सं. 02 के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार, न्यायाधीश, पारिवारिक न्यायालय, श्रीगंगानगर द्वारा एक पति-पत्नी के बीच चले रहे 5 वर्ष पुराने विवाद को आपसी समझाईश कर निस्तारित करवाया गया। प्रकरण के अनुसार पक्षकारान का विवाह 2 मई 2014 को सम्पन्न हुआ जो कुछ समय तक अच्छी तरह से चलता रहा। वर्ष 2015 में बेटी का जन्म भी हुआ परन्तु बाद में मनमुटाव के कारण पति-पत्नी जून 2016 से अलग-अलग रहने लग गये। पारिवारिक न्यायालय श्रीगंगानगर के समक्ष दाम्पत्य अधिकारों की पुर्नस्थापना हेतु याचिका प्रस्तुत की गई। प्रकरण में कई बार समझाईश की गई परन्तु प्रकरण में राजीनामा नहीं हो सका। आज पुनः इस प्रकरण को राष्ट्रीय लोक अदालत समक्ष रखा गया जहां पर बैंच सं. 2 के न्यायाधीश, श्री दीपक कुमार, पारिवारिक न्यायालय, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्रीगंगानगर के सचिव श्री पवन कुमार वर्मा श्रीगंगानगर, न्यायमित्र श्री प्रवीण अहलूवालिया व लोक अदालत बैंच सदस्य श्री किशोर स्वामी द्वारा पक्षकारान के मध्य आपसी सहमति व राजीनामा से निपटारा चाहा और एक साथ रहकर पुनः अपनी गृहस्थी को चलाने के लिए तैयार हो गये जिस पर बैंच अध्यक्ष श्री दीपक कुमार ने दोनों पक्षों को इस खुशी के अवसर पर गुलदस्ते भेंट कर सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनाये देते हुए एक साथ घर रवाना किया गया।

No comments:

Post a Comment

इस खबर को लेकर अपनी क्या प्रतिक्रिया हैं खुल कर लिखे ताकि पाठको को कुछ संदेश जाए । कृपया अपने शब्दों की गरिमा भी बनाये रखे ।

कमेंट करे